Hindi Love Shayari

Posted December 7, 2017 By admin

हाल पूछा न खैरियत पूछी,
आज भी उसने,,
हैसियत पूछी…

Be the first to comment
   

Hindi Shayari

Posted December 5, 2017 By admin

बेइन्तेहां ही हो, गर खता ऐसी हो,
मोहब्बत है ही इतनी खुबसूरत.

Be the first to comment
   

Teri Yaad Nahi Jaati..

Posted December 5, 2017 By admin
तेरी याद नहीं जाती..
होठों से तेरी बात नहीं जाती..
जाने  क्या  करिश्मा हैं क़ुदरत का,
तेरे लौट आने की आस नहीं जाती..
Be the first to comment
   

Everyone has a Story in Life

Posted December 5, 2017 By admin

A 24 year old boy seeing out from the train’s window shouted…
“Dad, look the trees are going behind!”
Dad smiled and a young couple sitting nearby, looked at the 24 year old’s childish behavior with pity,
suddenly he again exclaimed…
“Dad, look the clouds are running with us!”
The couple couldn’t resist and said to the old man…
“Why don’t you take your son to a good doctor?”
The old man smiled and said…
“I did and we are just coming from the hospital, my son was blind from birth, he just got his eyes today.

Every single person on the planet has a story. Don’t judge people before you truly know them. The truth might surprise you.

Be the first to comment
   

माना की दूरियां कुछ बढ़ सी गयीं हैं
लेकिन तेरे हिस्से का वक़्त आज भी तनहा गुजरता है…

Be the first to comment
   

R.I.P SHASHI KAPOOR

Posted December 5, 2017 By admin

सच ही कहा है पंछी इनको,

रात को ठहरें तो उड़ जाएं,

दिन को आज यहाँ कल वहाँ है ठिकाना |

बागों में जब-जब फूल खिलेंगे,

तब-तब ये हरजाई मिलेंगे,

गुज़रेगा कैसे पतझड़ का ज़माना|

परदेसियों से ना अँखियाँ मिलाना,

परदेसियों को है इक दिन जाना |

Be the first to comment
   

कोई लब्ज़ लिखु

Posted December 4, 2017 By admin

कोई लब्ज़ लिखु…या,
अल्फाज मेरे दिल का,..या,
युँ हीं ख़ामोश रह जाऊँ,
ऐ मोहब्बत,ऐसा समां बना,
उनके हीं रंग मे रग जाऊँ…

Be the first to comment
   

गुरूर

Posted December 4, 2017 By admin

वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं,
तो इसमें हैरत की बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते हैं,
वो आम हो ही नहीं सकते।

Be the first to comment
   

पहले इश्क़ को आग होने दीजिए,
फिर दिल को राख होने दीजिए…!

तब जाकर पकेगी बेपनाह मोहब्बत,
जो भी हो रहा बेहिसाब होने दीजिए…!

सजाएं मुकर्रर करना इत्मिनान से,
मगर पहले कोई गुनाह होने दीजिए…!

मैं भूला नहीं बस थोड़ा थक गया था,
लौट आऊंगा घर शाम होने दीजिए…!

चाँद के दीदार की चाहत दिन में जगी है,
आयेगा नज़र वो, रात होने दीजिए….!

नासमझ, पागल, आवारा, लापरवाह हैं जो,
संभल जाएंगे वो भी एहसास होने दीजिए…!!

Be the first to comment
   

मोहब्बत का उसूल

Posted December 3, 2017 By admin

हिसाब का उसूल कुछ और होता होगा…
के दो मे से एक निकालो, एक बचता है…
पर
मोहब्बत का उसूल कुछ और होता है…
यहाँ दो मे से एक निकालो तो एक भी नही बचता…

Be the first to comment