कोई लब्ज़ लिखु

कोई लब्ज़ लिखु…या,
अल्फाज मेरे दिल का,..या,
युँ हीं ख़ामोश रह जाऊँ,
ऐ मोहब्बत,ऐसा समां बना,
उनके हीं रंग मे रग जाऊँ…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *