मुलाकात एक मांगी थी

मुलाकात एक मांगी थी मैंने,
नज़ाकत तो देखिये,
रखकर लिफाफे में इक फूल उसने भेजा है,गुलाब का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *