मैने कभी पतझड़ नहीं देखा.

हर रोज़ चुपके से निकल आते है नये पत्ते,
यादों के दरख्तों मे मैने कभी पतझड़ नहीं देखा…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *