ऐ ज़िन्दगी मुझे तोड़ कर ऐसे बिखेर अब की बार

ऐ ज़िन्दगी मुझे तोड़ कर ऐसे बिखेर अब की बार…….
ना खुद को जोड़ पाऊँ मै, ना फिर से तोड़ पाये वो…..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *