कुछ सपनों को पूरा करने निकले थे घर से

कुछ सपनों को पूरा करने निकले थे घर से,
किसको पता था कि घर जाना ही एक सपना बन जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *