सनम का दीदार

खुदा मिले ना या ना मिले ख्वाइश नहीं,
सनम का दीदार हो जाए, ये ही काफी है

One Comment

  1. Comment by kamaluddin khan:

    hello

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *