Aazaad Khuwaais

अपने लबों से भी तो कभी आज़ाद कर ख्वाहिशें अपनी.
जरा मुझे भी तो मालूम हो मेरी तलब तुझे किस हद तक है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *