Poems Archive

R.I.P SHASHI KAPOOR

Posted December 5, 2017 By admin

सच ही कहा है पंछी इनको,

रात को ठहरें तो उड़ जाएं,

दिन को आज यहाँ कल वहाँ है ठिकाना |

बागों में जब-जब फूल खिलेंगे,

तब-तब ये हरजाई मिलेंगे,

गुज़रेगा कैसे पतझड़ का ज़माना|

परदेसियों से ना अँखियाँ मिलाना,

परदेसियों को है इक दिन जाना |

Be the first to comment

पहले इश्क़ को आग होने दीजिए,
फिर दिल को राख होने दीजिए…!

तब जाकर पकेगी बेपनाह मोहब्बत,
जो भी हो रहा बेहिसाब होने दीजिए…!

सजाएं मुकर्रर करना इत्मिनान से,
मगर पहले कोई गुनाह होने दीजिए…!

मैं भूला नहीं बस थोड़ा थक गया था,
लौट आऊंगा घर शाम होने दीजिए…!

चाँद के दीदार की चाहत दिन में जगी है,
आयेगा नज़र वो, रात होने दीजिए….!

नासमझ, पागल, आवारा, लापरवाह हैं जो,
संभल जाएंगे वो भी एहसास होने दीजिए…!!

Be the first to comment

छोटा सा गाँव मेरा पूरा बिग बाजार था
एक नाई, एक मोची, एक काला लुहार था

छोटे छोटे घर थे, हर आदमी बङा दिलदार था
कही भी रोटी खा लेते, हर घर मे भोजऩ तैयार था

बाड़ी की सब्जी मजे से खाते थे जिसके आगे शाही पनीर बेकार था
दो मिऩट की मैगी ना, झटपट दलिया तैयार था

नीम की निम्बोली और शहतुत सदाबहार था
छोटा सा गाँव मेरा पूरा बिग बाजार था

अपना घड़ा कस के बजा लेते
समारू पूरा संगीतकार था

मुल्तानी माटी से तालाब में नहा लेते, साबुन और स्विमिंग पूल बेकार था
और फिर कबड्डी खेल लेते, हमे कहाँ क्रिकेट का खुमार था

दादी की कहानी सुन लेते,कहाँ टेलीविज़न और अखबार था
भाई -भाई को देख के खुश था, सभी लोगों मे बहुत प्यार था

छोटा सा गाँव मेरा पूरा बिग बाजार था

Be the first to comment

Short & Sweet

Posted October 24, 2016 By admin

A few words, painless and short,
It’s your birthday, be a sport.
At your age, you look great,
Have you been, lifting weight?

Wish you health, and all the best,
Joy and laughter, I suggest.
Happy birthday, one more time,
Times are tough; here’s a dime.

By Martin Dejnicki

Be the first to comment

उलझनों और कश्मकश

Posted January 17, 2015 By admin

उलझनों और कश्मकश में उम्मीद की ढाल लिए
बैठा हूँ,
ए जिंदगी, तेरी हर चाल के लिए मैं दो चाल
लिए बैठा हूँ !!
लुत्फ़ उठा रहा हूँ मैं भी आँख-मिचोली का,
मिलेगी कामयाबी, हौसला कमाल का लिए बैठा हूँ !!
चल मान लिया दो-चार दिन नहीं मेरे मुताबिक,
गिरेबान में अपने ये सुनहरा साल लिए बैठा हूँ !!
ये गहराइयां, ये लहरें, ये तूफां, तुम्हे मुबारक,
मुझे क्या फ़िक्र,
मैं कश्तीया और दोस्त बेमिसाल लिए बैठा हूँ !!

Be the first to comment

कभी क़रीब कभी दूर हो के रोते हैं
मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं.

ज़िहानतों को कहाँ वक़्त ख़ूँ बहाने का
हमारे शहर में किरदार क़त्ल होते हैं.

फ़ज़ा में हम ही बनाते हैं आग के मंज़र
समंदरों में हमीं कश्तियाँ डुबोते हैं.

पलट चलें के ग़लत आ गए हमीं शायद
रईस लोगों से मिलने के वक़्त होते हैं.

मैं उस दियार में हूँ बे-सुकून बरसों से
जहाँ सुकून से अजदाद मेरे सोते हैं.

गुज़ार देते हैं उम्रें ख़ुलूस की ख़ातिर
पुराने लोग भी अजीब होते हैं……

Be the first to comment

Indepedence Day

Posted July 25, 2014 By Raj Shekhar Rana

 

The tea went in the sea
It started with a Big Bang
Brave men longed to be free
long before the bell rang

The war took its toll
though battles were won
Liberty was the goal
of almost everyone

In order to form a perfect union
The preamble was written
as they offered a communion
before the soldiers were smitten

Ideals stood firm in the revolution,
some have been lost along the way,
as democracy is another evolution.
Nothing’s louder than Independence Day

Be the first to comment

Truth Spoken

Posted July 25, 2014 By Raj Shekhar Rana
On the cross, hangs my King,
Beaten, bruised, not broken.
By His blood, I am made clean,
My heart cleaned, changed, and open.
Defeating the grave, giving me life,
To Him be glory, praise, devotion.
My life now a living sacrifice,
Serving, loving, truth spoken.
Be the first to comment

Bedlam in Burbia

Posted July 24, 2014 By Raj Shekhar Rana

The fireflies were still out
just before sunrise
should have known something was wrong
When even the morning doves didn’t sing their song

The morbid popping sounds in the distance
Of left over pyrotechnic disturbance
hackneyed excitement turned excrement
floating down to the square miswatered lawns
That finds itself firmly uneducating
the late July sky

Never before has black gun powder
Ever unleashed a sound scarier
As my brow scrunched and my head cocked
I stepped out of the shower
went and peeked out my door unlocked

To my horror I stood by shell-shocked
As my eyes blurred and my jaw dropped
a harbinger of slashing fierce pit bull terrier
mercilessly shredding a young child by instinct behavior

As my shower towel fell
that moment when sonic sound stands still
Seems the newly purchased “Lord Byron”
is not what he seems,
Resonating residential urban echoing screams

Be the first to comment

21 days to freedom

Posted July 24, 2014 By Raj Shekhar Rana

Two numbers that can change a memory.
A human brain needs time to change,
like the cycle of the moon
or sand falling through glass,
we require twenty-one days.

A cigarette burns like a beacon,
it removes doubt and muddles your mind,
it strokes your inner thoughts and whispers,
Oh so gently into your ear,
this life is just a little drag.

That shot glass fits finger and thumb,
like picking up a part that has fallen off.
It’s sweet innards carry us away from here,
to a reality that needs no coping,
a place where we are equal
even in our daughters eyes.

A change of attitude turns slowly,
the meek bloom from extinguished self doubt,
a feel of real worth bathes their fears
washing them away forever,
a new man, a new start.

Twenty-one days later
the cigarette is cancer on a stick
the shot glass is a bullet in your hand,
A brain can be reprogrammed.

Be the first to comment