Alone Shayari Archive

ऐ ज़िन्दगी मुझे तोड़ कर ऐसे बिखेर अब की बार…….
ना खुद को जोड़ पाऊँ मै, ना फिर से तोड़ पाये वो…..!!

Be the first to comment

याद आयेगी हमारी तो

Posted October 20, 2015 By admin

याद आयेगी हमारी तो बीते कल को पलट लेना..
यूँ ही किसी पन्ने में मुस्कुराते हुए मिल जायेंगे ..!!

Be the first to comment

छीन लेता है हर चीज मुझसे …
ए खुदा…
क्या तू भी इतना गरीब है????

Be the first to comment

तुम्हारे बगैर भी जिंदगी ठीक ठाक चल रही हैं,
और देखो,मैं झूठ भी ठीक ठाक बोलने लगा हूँ…!!!

Be the first to comment

क्या पहचाने यहाँ किसी को,
जरुरत पूरी होते ही बदल जाते हैं लोग…!

Be the first to comment

क़ाश कोई ऐसा हो

Posted September 15, 2015 By admin

क़ाश कोई ऐसा हो, जो गले लगा कर कहे, तेरे दर्द से मुझे भी तकलीफ होती है..

Be the first to comment

मेरी तनहाई का ज़िक्र ना किया कर,
सब के अपने अपने नसीब होते है..

Be the first to comment

बँद मुठ्ठी से गिरते हुये रेत की तरह…
भुला दिया मैने तुझे ज़रा-ज़रा करके

Be the first to comment

हाल पूछा न खैरियत पूछी
आज भी उसने,
हैसियत पूछी…!!

1 Comment. Join the Conversation

शराब की बोतल

Posted January 4, 2015 By admin

पड़ी मिली एक शराब की बोतल, तो ऐसा लगा मुझे..
जैसे बिखरा पड़ा था, एक रात का सुकून किसी का !!

Be the first to comment