Life Shayari Archive

आज फिर समुंद्र में उत्तुंग लहरें देखी
नज़र बादलों पर नहीं रखनी
खुद को कैसे बदलना बस यही समझना है…

Be the first to comment

अक्सर आसमां छुने की जिद्द करता है ,
क्या मेरे अंदर भी एक परिंदा रहता है ।

Be the first to comment

तुम मेरे पास थे

Posted October 22, 2015 By admin

तुम मेरे पास थे..हो..और सदा रहोगे..
ख़ुदा का शुक्र है यादों की कोई उम्र नहीं…!!

Be the first to comment

हम बने थे तबाह होने के लिए……
तेरा छोड़ जाना तो महज़ इक बहाना था….!!

Be the first to comment

रिश्तों को मजबूत किजीए…
….. मजबूर नहीं….

Be the first to comment

क्या पहचाने यहाँ किसी को,
जरुरत पूरी होते ही बदल जाते हैं लोग…!

Be the first to comment

तेज़ धूप में झुलस गये उन बच्चों के पाँव,
बाप जिन का माहिर था महंगे जूते बनाने में –

Be the first to comment

मौत एक सच्चाई है

Posted January 5, 2015 By admin

मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं
क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोई जेब नहीं

ज़िन्दगी की रफ्तार

Posted January 5, 2015 By admin

ज़िन्दगी की रफ्तार मे मुझसे मेरा “मैं” कहाँ छूट गया हैं कोई बताएगा??
अमुल

Be the first to comment

किसी की राह में दहलीज़ पर दीये न रखो
किवाड़* सूखी हुई लकड़ियों के होते हैं

Be the first to comment