kuch aata nhe khud chal kar

कुछ आता है खुद चलकर, कुछ तक चल जाना होता है
मिलता वही है जो लिखा है, बाक़ी सब बहाना होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *