नफ़रत करते तो अहमियत बढ़ जाती उनकी
मैंने माफ़ कर के उनको शर्मिंदा कर दिया

Be the first to comment
   

पाँव हौले से रख कश्ती से उतरने वाले…
जिंदगी अक्सर किनारों से ही खिसका करती है…!!

Be the first to comment
   

Kitni Dilkash Hai Khamoshi Teri

Posted December 2, 2017 By admin

Kitni Dilkash Hai Khamoshi Teri…

Meri Sari Batein Fazool Hon Jaise…

Be the first to comment
   

हमें पसंद नहीं जंग में चालाकी यारो…
जिसे निशाने पर रखते हैं…
बता कर रखते हैं !!

Be the first to comment
   

मुलाकात एक मांगी थी

Posted November 28, 2017 By admin

मुलाकात एक मांगी थी मैंने,
नज़ाकत तो देखिये,
रखकर लिफाफे में इक फूल उसने भेजा है,गुलाब का

Be the first to comment
   

अपने खिलाफ बाते बड़ी खामोशी से सुनती हूँ मैं,
ऐ दोस्तों जवाब देने का ज़िम्मा मैंने वक्त को दे रखा है !!

Be the first to comment
   

dera sacha sauda ultimate shayari

Posted September 27, 2017 By admin

आओ कभी हमारे दिल के डेरे पर,,
तुमसे मुहब्बत का सच्चासौदा करना है.

Be the first to comment
   

छोटा सा गाँव मेरा पूरा बिग बाजार था
एक नाई, एक मोची, एक काला लुहार था

छोटे छोटे घर थे, हर आदमी बङा दिलदार था
कही भी रोटी खा लेते, हर घर मे भोजऩ तैयार था

बाड़ी की सब्जी मजे से खाते थे जिसके आगे शाही पनीर बेकार था
दो मिऩट की मैगी ना, झटपट दलिया तैयार था

नीम की निम्बोली और शहतुत सदाबहार था
छोटा सा गाँव मेरा पूरा बिग बाजार था

अपना घड़ा कस के बजा लेते
समारू पूरा संगीतकार था

मुल्तानी माटी से तालाब में नहा लेते, साबुन और स्विमिंग पूल बेकार था
और फिर कबड्डी खेल लेते, हमे कहाँ क्रिकेट का खुमार था

दादी की कहानी सुन लेते,कहाँ टेलीविज़न और अखबार था
भाई -भाई को देख के खुश था, सभी लोगों मे बहुत प्यार था

छोटा सा गाँव मेरा पूरा बिग बाजार था

Be the first to comment
   

वो एक शक़्स मुझे अपने क़रीब लगता है
खुद से करूँ जुदा तो अजीब लगता है

ये बेक़रारी, ये बेचैनी, ये कशिश कैसी
उसका मिलना मुझे अपना नसीब लगता है

कभी मीठी सी बातें, कभी हर बात पे झगड़े
ये याराना बड़ा दिलचस्प, बे-तरतीब लगता है

मोहब्बत की मंज़िल का पता न मिल सके फिर भी
कई सदियों का रिश्ता ये मेरे हबीब लगता है

उसके होने से जो सज जाती थी महफ़िलें
उसके बग़ैर ये शहर बड़ा गरीब लगता है

Be the first to comment
   

अब किसी और के वास्ते ही सही,,
पर अदाए उनकी आज भी वैसी ही हैं…

Be the first to comment