R.I.P SHASHI KAPOOR

Posted December 5, 2017 By admin

सच ही कहा है पंछी इनको,

रात को ठहरें तो उड़ जाएं,

दिन को आज यहाँ कल वहाँ है ठिकाना |

बागों में जब-जब फूल खिलेंगे,

तब-तब ये हरजाई मिलेंगे,

गुज़रेगा कैसे पतझड़ का ज़माना|

परदेसियों से ना अँखियाँ मिलाना,

परदेसियों को है इक दिन जाना |

Be the first to comment
   

कोई लब्ज़ लिखु

Posted December 4, 2017 By admin

कोई लब्ज़ लिखु…या,
अल्फाज मेरे दिल का,..या,
युँ हीं ख़ामोश रह जाऊँ,
ऐ मोहब्बत,ऐसा समां बना,
उनके हीं रंग मे रग जाऊँ…

Be the first to comment
   

गुरूर

Posted December 4, 2017 By admin

वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं,
तो इसमें हैरत की बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते हैं,
वो आम हो ही नहीं सकते।

Be the first to comment
   

पहले इश्क़ को आग होने दीजिए,
फिर दिल को राख होने दीजिए…!

तब जाकर पकेगी बेपनाह मोहब्बत,
जो भी हो रहा बेहिसाब होने दीजिए…!

सजाएं मुकर्रर करना इत्मिनान से,
मगर पहले कोई गुनाह होने दीजिए…!

मैं भूला नहीं बस थोड़ा थक गया था,
लौट आऊंगा घर शाम होने दीजिए…!

चाँद के दीदार की चाहत दिन में जगी है,
आयेगा नज़र वो, रात होने दीजिए….!

नासमझ, पागल, आवारा, लापरवाह हैं जो,
संभल जाएंगे वो भी एहसास होने दीजिए…!!

Be the first to comment
   

मोहब्बत का उसूल

Posted December 3, 2017 By admin

हिसाब का उसूल कुछ और होता होगा…
के दो मे से एक निकालो, एक बचता है…
पर
मोहब्बत का उसूल कुछ और होता है…
यहाँ दो मे से एक निकालो तो एक भी नही बचता…

Be the first to comment
   

नफ़रत करते तो अहमियत बढ़ जाती उनकी
मैंने माफ़ कर के उनको शर्मिंदा कर दिया

Be the first to comment
   

पाँव हौले से रख कश्ती से उतरने वाले…
जिंदगी अक्सर किनारों से ही खिसका करती है…!!

Be the first to comment